Tuesday, Mar 19, 2019
HomeNewsराम मंदिर निर्माण को लेकर फ़ारूक़ अब्दुल्लाह के बयान के बाद सियासी गलियारों में चर्चा हुई तेज़

राम मंदिर निर्माण को लेकर फ़ारूक़ अब्दुल्लाह के बयान के बाद सियासी गलियारों में चर्चा हुई तेज़

farooq abdullah babri masjid

आज सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या भूमि विवाद को लेकर कोर्ट ने 10 जनवरी को नई बेंच गठित करके सुनवाई शुरू करने का फैसला किया है। इसके बाद नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला ने राम मंदिर के निर्माण को लेकर बड़ा बयान दिया है।

उन्होंने कहा कि इस मामले को कोर्ट तक नहीं लाना चाहिए था बल्कि इसको बातचीत करके सुलझा लेना चाहिए था। फारुक अब्दुल्ला ने अपने बयान में कहा कि भगवान राम सबके हैं और राम मंदिर को बनाने के लिए कानून बनाना सही नहीं होगा। वहीं दूसरी ओर शिवसेना ने यह साफ किया है कि सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई के लिए रुके रहेंगे तो राम मंदिर नहीं बन सकेगा।

खबरों के अनुसार फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि भगवान राम सभी के हैं और जिस दिन इस मामले का निपटारा हो गया वह खुद राम मंदिर की ईंट लगाने के लिए जाएंगे।

आपको बता दें कि आज सुप्रीम कोर्ट में राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद विवाद को लेकर सुनवाई थी जिसमें नई बेंच को बनाने के लिए कहा गया है और अब इस मामले की अगली सुनवाई 10 जनवरी को होनी है।

सुनवाई टालने के बाद केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि पूरे देश को 4 जनवरी का इंतजार था लेकिन अब यह 10 जनवरी तक टल गई है। देश की जनता जानना चाहती है कि आखिर इस पर लगातार सुनवाई कब से शुरू होगी। यह कोई साधारण मुद्दा नहीं है।

वहीं शिवसेना के सांसद संजय राउत ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई से मंदिर नहीं बनेगा। यहां हमेशा अलग-अलग तारीख आती रहेगी और सुनवाई चलती रहेगी। हम अपनी मांग पर अभी भी अडिग है, केंद्र सरकार को चाहिए की अध्यादेश लाकर राम मंदिर का रास्ता साफ करें।

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT