Monday, Nov 19, 2018
HomeNewsअर्नब गोस्वामी को मिला वफादारी का इनाम, मोदी सरकार ने दिया यह तोहफा

अर्नब गोस्वामी को मिला वफादारी का इनाम, मोदी सरकार ने दिया यह तोहफा

arnab goswami sambit patra gets reward from

भारतीय जनता पार्टी के राज्यसभा सांसद राजीव चंद्रशेखर के साथ मिलकर अंग्रेजी न्यूज़ चैनल रिपब्लिक को स्थापित करने वाले अर्नब गोस्वामी को केंद्र सरकार ने तोहफा दिया है। अर्नब गोस्वामी को नई दिल्ली के नेहरू मेमोरियल म्यूजियम और लाइब्रेरी का नया सदस्य बना दिया गया है।

आपको बता दें कि अर्नब गोस्वामी के साथ तीन और लोगों को इस संस्थान का मेंबर बनाया गया है जिसमें पूर्व विदेश सेक्रेट्री एस जयशंकर, बीजेपी सांसद विनय सहस्त्रबुद्धे और इंदिरा गांधी इंटरनेशनल सेंटर फॉर आर्ट्स के चेयरमैन राम बहादुर राय का नाम शामिल है।

इन मेंबर्स को लाने के लिए अर्थशास्त्री नितिन देसाई, प्रोफेसर उदय मिश्रा और पूर्व ब्यूरोक्रेट बीपी सिंह को समिति से से हटा दिया गया था। इकोनामिक टाइम्स की खबर के अनुसार इन तीनों सदस्यों को इसलिए बर्खास्त किया गया क्योंकि वह सरकार की नीतियों के खिलाफ खुलकर बोलते थे और इन्होंने नेहरू मेमोरियल म्यूजियम और लाइब्रेरी को लेकर मोदी सरकार की नीतियों पर सवाल खड़ा किया था, जिसके चलते उन्हें हटा दिया गया।

बता दें कि कुछ समय पहले ही यहां की सोसाइटी के एक सदस्य प्रताप भानु मेहता ने राजनीतिक दबाव के चलते इस्तीफा दिया था। मेहता का इस्तीफा स्वीकार भी कर लिया गया है। अब संस्था के अंदर सदस्यों ने विरोधाभास शुरू कर दिया है।

29 अक्टूबर को मिनिस्ट्री ऑफ कल्चर ने एक सर्कुलर जारी किया था जिसमें नए सदस्यों का कार्यकाल 26 अप्रैल 2020 तक या अगले आदेश तक रहेगा और इस कमेटी का काम मेमोरियल म्यूजियम और लाइब्रेरी से जुड़े हैं फैसलों को लेना है।

अर्नब गोस्वामी की बात करें तो उन्होंने भाजपा के राज्यसभा सांसद के साथ मिलकर 6 मई 2017 को अपना एक अलग अंग्रेजी चैनल रिपब्लिक शुरू किया था और उसके बाद से ही वे लगातार विवादों में घिरे हुए हैं। आलोचकों को कहना है कि अर्नब गोस्वामी भाजपा समर्थक हैं और लगातार उनकी इसी बात को लेकर आलोचना होती रहती है।

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT