Tuesday, May 21, 2019
HomeSports and Entertainmentक्रूनल और बुम्राह से पार पाना हो रहा था मुश्किल इसलिए इस बॉलर को बनाया निशाना, जीत के बाद मैक्सवेल का बयान

क्रूनल और बुम्राह से पार पाना हो रहा था मुश्किल इसलिए इस बॉलर को बनाया निशाना, जीत के बाद मैक्सवेल का बयान

maxwell ne diya bayan

भारत इस समय ऑस्ट्रेलिया के साथ जून में शुरू हो रहे वर्ल्डकप से पहले अपने कुछ अंतिम मैच खेल रहा है। इसके लिए ऑस्ट्रेलिया की टीम कुछ सीमित ओवर मुकाबले खेलने भारत आई है। इस दौरान रविवार को दो मैचो की टी20 श्रंखला का पहला टी20 मैच खेला गया जो ऑस्ट्रेलियाई टीम ने अंतिम बॉल पर जीता। इस मैच के दौरान ऑस्ट्रेलिया को छोटा लक्ष्य मिला था और इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए भारतीय गेंदबाज़ों ने ऑस्ट्रेलिया को खूब पापड़ बिल्वाए लेकिन अंत में ऑस्ट्रेलियाई टीम ने जीत दर्ज की और इस जीत के बाद ऑस्ट्रेलियाई टीम की जीत के हीरो मैक्सवेल अपनी पारी के दौरान सामने आई मुश्किलों के बारे में बताया।

दरअसल इस मैच में ऑस्ट्रेलिया के आतिशी बल्लेबाज़ ग्लेंन मैक्सवेल ने 56 रन की शानदार पारी खेल ऑस्ट्रेलिया को जीत के करीब पंहुचा दिया था लेकिन मैक्सवेल को 56 रन बनाने के लिए भारतीय गेंदबाजो ने काफी तंग किया था जिसका ज़िक्र उन्होंने मैच के बाद दिए इंटरव्यू में किया. इस दौरान मैक्सवेल ने कहा, ‘क्रूनल और बुमराह से पार पाना बेहद मुश्किल था। मैंने चहल जैसे अन्य खिलाड़ियों को निशाना बनाने का फैसला किया।’ मैक्सवेल ने भले ही चहल को टारगेट किया लेकिन मैक्सवेल ने उन्हें ही अपना विकेट भी दिया और इस बारे में मैक्सवेल ने कहा, ‘मैं एक और छक्का मारने की कोशिश कर रहा था, लेकिन यह खराब बल्लेबाजी थी, मैं अगले गेम में संशोधन करूंगा।’

मैक्सवेल ने इंटरव्यू में यह भी कहा, जीत स्पष्ट रूप से एक जीत ही है। मुझे लगा कि मैं बीच के ओवरों में नियंत्रित करने में सक्षम हूं। डार्सी के साथ एक अच्छी साझेदारी थी, लेकिन दुर्भाग्य से हम दोनों कम समय में आउट हो गये, जिससे अंत में थोड़ी परेशानी हुई। पैट कमिंस और झे रिचर्डसन अंत में उत्कृष्ट थे। यह (4 पर बल्लेबाजी) कुछ है जो मैंने टी 20 में अच्छा किया है और घरेलू स्तर पर बिग बैश में वापस आ गया हूं। यह एक ऐसी पोजीशन है जिसमें मैं बल्लेबाजी करने के लिए सहज हूं। उम्मीद है कि मैं आगे भी अच्छा प्रदर्शन करूंगा।’

गौरतलब है कि भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए एक अच्छी शुरुवात की लेकिन बीच में भारतीय टीम डीरेल हो गई और राहुल के अर्धशतक और धोनी के 29 रन की बदौलत भारतीय टीम ने 126 बनाए। इसके जवाब में ऑस्ट्रेलियाई टीम को शुरूवात अच्छी नहीं हुई और 127 रनों के आसान लक्ष्य को भी भारतीय गेंदबाज़ों ने पहाड़ साबित कर दिया था। बुम्राह द्वारा किये गये 19वे ओवर में केवल दो रन खरचने की बदौलत अंतिम ओवर में ऑस्ट्रेलिया को 14 रन की दरकार थी जो ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने अंतिम गेंद पर दो रन लेकर पूरी कर दी और पहला मैच अपने नाम कर लिया। इस मैच में कुल्टर नाईल को शानदान गेंदबाज़ी प्रदर्शन कर तीन विकेट चटकाने के लिए मैन ऑफ़ द मैच पुरूस्कार दिया गया।

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT