Wednesday, Apr 24, 2019
HomeSports and Entertainment‘अटल जी के समय भारतीय जनता पार्टी में लोकशाही थी आज तानाशाही है’: भाजपा सांसद

‘अटल जी के समय भारतीय जनता पार्टी में लोकशाही थी आज तानाशाही है’: भाजपा सांसद

pm modi advani

बॉलीवुड अभिनेता और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पटना साहिब से सांसद शत्रुघ्न सिन्हा अगर आज अपनी पार्टी के खिलाफ कोई बयान दे रहे है तो इसमें कोई नई बात नहीं है क्योकि वह पिछले कुछ समय से अपनी ही पार्टी की खामिया बंद कमरों के बजाए खुले में उजागर कर रहे है। एक बार जब वह एक न्यूज़ चैनल के एक कार्यक्रम में पहुचे तो उन्होंने अपने पार्टी नेतृत्व पर गंभीर सवाल उठाए और वही विपक्षी दल कांग्रेस के नेतृत्व की प्रशंसा की।

दरअसल मंगलवार (15 जनवरी) को भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा एबीपी न्यूज़ के बिहार शिखर सम्मेलन में पहुचे थे। इस दौरान उन्होंने हर सवाल का बड़ी ही बेबाकी से जवाब दिया. शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि बीजेपी में पहले लोकशाही थी और अब ‘तानाशाही’ है। जब उनसे पूछा गया कि बीजेपी का कौन सा फैसला देश हित में नहीं हुआ? तो उन्होंने जवाब दिया, ‘मैं दूसरी तरफ परिवारवाद तो अपने यहां व्यक्ति पूजा देखता हूं। लोकतंत्र में तानाशाही नहीं होती। अगर नोटबंदी ठीक नहीं लगी तो बोला। लोग बेघर हो गए नोटबंदी की वजह से, उनकी नौकरी चली गई और हम एक व्यक्ति की पूजा करते रहे ये नहीं होगा मुझसे।’

जब पूछा गया कि आपने पीएम मोदी से बात की तो उन्होंने कहा, ‘मुझे पार्टी का मंच ही नहीं मिल रहा तो कहां अपनी बात कहूं। पीएम मोदी से एक बार फिडबैक देने के लिए मिलने को कहा तो मुझे बताया गया कि पार्टी अध्यक्ष से मिलिए। मैं शिकायत नहीं कर रहा बल्कि आपके सवाल का जवाब दे रहा हूं। मैं बस आइना दिखा रहा हूं। व्यक्ति से बड़ा पार्टी और पार्टी से बड़ा देश होता है। मैं देश हित की बात करता हूं।’

इस बातचीत के दौरान शत्रुघ्न सिन्हा का मंत्री पद न मिलने का दर्द भी छलका। एक सवाल के जवाब में शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, ‘मैं आडवाणी कैंप का था इसलिए शायद मंत्री नहीं बनाया गया। मैं इसके अलावा नहीं जानता क्यों नहीं बनाया गया। क्या मुझ पर कोई भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे। आप टीवी एक्ट्रेस को HRD मिनिस्टर बना देते हैं तो मुझे क्यों कहा जाता है कि आप फिल्मों से हैं आपका अनुभव नहीं।’ शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि बीजेपी जो अटल जी वाली और पीएम मोदी वाली बिलकुल अलग है। अटल जी के समय लोकशाही थी आज तानाशाही है।

वही अपनी पार्टी के नेतृत्व की खामिया निकालने के साथ शत्रुघ्न सिन्हा ने विपक्षी दल कांग्रेस के नेतृत्व की तारीफ भी की। शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि राहुल में बहुत कम समय में जो परिपक्वता आई है, उसे अन्य पार्टी के अध्यक्षों को भी सीखना चाहिए। अध्यक्ष बनने के बाद उन्होंने तीन राज्यों में जीत दर्ज की इससे ज्यादा और क्या चाहिए। उन्होंने कहा, ‘मैं शुरू से ही गांधी परिवार का ‘फैन’ रहा हूं। मैं जवाहरलाल नेहरू से लेकर सोनिया गांधी तक का प्रशंसक रहा हूं और अब राहुल का भी प्रशंसक हूं।’

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT