Monday, Nov 19, 2018
HomeNewsअटल बिहारी की सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे ‘सरताज’ ने दिया भाजपा को झटका

अटल बिहारी की सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे ‘सरताज’ ने दिया भाजपा को झटका

modi bihari

चुनावों और राजनीति की बात करें तो यहाँ हर किसी की किस्मत बुलंद नहीं होती है लेकिन आज मामला एक ऐसे नेता का है जिसने अपनी पुरानी पार्टी को छोड़ा और नई पार्टी का हाथ थाम लिया। यही नहीं सुबह जॉइनिंग की और शाम को ही विधानसभा चुनाव लड़ने का टिकट भी मिल गया।

जी यहां बात हो रही है भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और अटल बिहारी वाजपेई की 13 दिनों वाली सरकार मैं मंत्री रहे सरताज सिंह की जिन्होंने आज सुबह ही कांग्रेस पार्टी जॉइन की थी और शाम में उन्हें होशंगाबाद विधानसभा सीट से कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार भी घोषित कर दिया।

दरअसल मामला यह है कि भारतीय जनता पार्टी ने जब अपने उम्मीदवारों की सूची जारी की थी तो उसमें सरताज सिंह का नाम उम्मीदवारों में नहीं था। जिसके बाद वे रोने लगे थे। अपमानित होने के बाद सरताज सिंह ने तुरंत ही भारतीय जनता पार्टी का साथ छोड़कर कांग्रेस का हाथ थाम लिया और कांग्रेस ने भी देरी ना करते हुए उन्हें होशंगाबाद विधानसभा सीट से अपना उम्मीदवार बना दिया है। बताया जा रहा है कि शुक्रवार को गया अपना नामांकन का पर्चा भी दाखिल कर देंगे।

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के चलते कांग्रेस पार्टी ने अपने उम्मीदवारों की पांच सूचना जारी की है। आज पांचवी सूची में सरताज सिंह को होशंगाबाद विधानसभा सीट से उम्मीदवार बनाया गया है, वहीं शयोपुर से बाबू चंदेल, पन्ना से शिवाजी सिंह, जबलपुर उत्तर से विनय कुमार सक्सेना, मानसा से उमराव सिंह गुर्जर और गोविंदपुरा से गिरीश शर्मा को कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार बनाया है।

कांग्रेस पार्टी ने 230 विधानसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं। पहली लिस्ट में 155, दूसरे में 16, तीसरे में 13 और चौथी लिस्ट में 29 उम्मीदवारों का ऐलान हुआ था और आज पांचवें और आखिरी सूची में 17 और उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया गया है।

लेकिन ऐसा नहीं है कि कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार अपनी पार्टी को छोड़कर नहीं गए हैं। पार्टी के सीनियर नेता और पूर्व सांसद सत्यव्रत चतुर्वेदी के बेटे नितिन चतुर्वेदी ने कांग्रेस का साथ छोड़कर समाजवादी पार्टी का साथ पकड़ा है। इसके बाद समाजवादी पार्टी ने उन्हें राजनगर से अपना उम्मीदवार बना लिया था। वह पार्टी से टिकट न मिलने से नाराज़ हैं।

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT